डिप्रेशन या अवसाद क्या है और इससे कैसे दूर करें

डिप्रेशन अवसाद क्या है इनहे कैसे दूर करें

नमस्कार,

            आप सभी महोदय को मैं अपना My Comfort Health में स्वागत करता हु। आपका हमारे साथ जुड़ना अतिविश्वस्नीयता एवं मन की खुशी को दृष्टिगत आगे रखता है। इस विषय के साथ पूरी जानकारी विश्लेषण एवं सम्पूर्ण ज्ञान को यथावत आपके सामने रखकर समस्याओं को दूर करने की पूरी कोशिश करेंगे। आप इस जानकारी की सम्पूर्ण व्याख्या अंतिम बिंदु तक बनाये रखे। हम आपकी सेवा में तत्त्पर विश्वास के साथ जुड़े रहेंगे!

डिप्रेशन अवसाद क्या है इनहे कैसे दूर करें

Depression means
Depression

इन्हें भी पढ़े- 

चार योगासन करें और दिन भर फिट तंदरुस्त रहे


अवसाद या डिप्रेशन का अर्थ यह है कि मनोविज्ञान के क्षेत्र में मनोभावों से संबंधी दुख होता है। यह अवस्था अधिकाशतः व्यक्ति के प्रेम रिश्तों को लेकर गंभीर मनःस्थिति में होती है। प्रेम रिश्तों में व्यक्ति के जीवन में अपने जीवन साथी या प्रेमी के प्रति बहुत अधिक तल्लीनता या लगावपन का प्रमुखता इसका सबसे बड़ा प्रभाव या दोष कारण होता है।


                    आजकल की भागदौड़ जिंदगी, परिवारिक समस्याओं विवादों, प्रेम सम्बन्धी विशेषकर आजकल के युवा-युवती इस हार्मोनल सोच से विचलित होते जा रहे है ऐसा मानो व्यक्तियों के मानसिक मनःस्थिति में बिजली की शॉर्ट सर्किट हो गया हो और न्यूरॉन अपनी सही रास्ता से भटक कर कोई अन्य काम करता हो। वर्तमान समय मे इस स्थिति या दबावों का प्रभाव पुरषो की अपेक्षा महिलाओं में ज्यादा दिखाई दे रहा है।

डिप्रेशन की समस्या


इस मनोवैज्ञानिक प्रेम सम्बन्धो का सही समय मे एक ना होना, परिवारिक कलह की स्थिति के होने से रोगी की सोच में कमी, सामाजिक दिनचर्या से दूर रहना, गुमसुम अकेले में बैठकर सोचते ही रहना, गाली-गलौज, खाना पीना में ठीक से ध्यान न देना, अशांति, अप्रिय, तनाव की स्थिति में रहता है। हार्मोनल या रासायनिक प्रभाव के अधिक होने से क्रोधी असामाजिक तत्वों में लिप्त, एवं कभी कभी आत्महत्या तक कि स्थिति बनी होती है।

डिप्रेशन से दूर करने के उपाय


अवसाद लाइलाज बीमारी है इनके ठीक होने की स्थिति का मनोवैज्ञानिक विश्लेषण से पता चलता है कि इनके सोच बनावट स्वयं की आदतों या उनके मानसिक सोच एवं व्यक्तित्व पर निर्भर करता है की इस स्थिति या समस्या को किस प्रकार से दूर किया जाय। इश्लिये परिजनों को इसके प्रति सजग रहना चाहिए, तुरन्त मनोवैज्ञानिक चिकिस्तक के पास ले जाये, उसे अकेले में रहने न दे, उनके सकारात्मक आत्मविश्वास सोच में बढ़ावा एवं कारण को जानने का प्रयास करे, संतुलित आहार, सामाजिक मेलजोल को बढ़ावा, इस अवसाद की मानसिक स्थिति का प्राणायाम एवं योगासन द्वारा दूर करना अधिक सहायक सिद्ध उपाय है।

आइए इस डिप्रेसन या उदासी को एक कविता के माध्यम से कैसे प्रस्तुति करते हुए दूर करें-

आज मन उदास है,
कारण नहीं कुछ खास है।
कोई अपने से हमे मनाए,
लगाए बैठे आस है।

बिन पूछे वजह,
बातों से जो दिल जीते
ऐसा नही कोई खास है।

ना किसी की गुस्ताखी, ना कोई शरारत
घर पर ही बैठे है,
लेकिन लगता वनवास है।

कभी बेसुरी सी लगती है जिंदगी
शरीर तो चलती है,
लेकिन लगती कोई खास है।

यू निराश क्यू मैं बैठु,
किसके मनाने का इंतजाम करूँ
सभी को अपनी ही ख़ुसी की प्यास है।

डूब जाऊ अपने आप मे
आनन्दित हो जाये रोम-रोम
अब तो ऐसी कला की आस है।

कल का क्या पता,
आज ही नया सवेरा है।
क्यो रहू उदास मैं,
आज तो अपना ही टाइम है।।
Thanks:- Lakhan Rajput

आप इस विषय को पढ़कर निश्चित ही  डिप्रेशन या अवसाद क्या है? इनकी समस्या कारण व उपाय को समझे होंगे। हमारे साथ जुड़कर हमेशा Health Lifestyle Fitness से सम्बंधित नई नई जानकारी पाए प्रश्नन रहे ज्ञान बढ़ाये।
हमारे अन्य विशेष जानकारी के लिए नीचे लिखे लिंक पर क्लिक करके हमारे साथ जुड़े।

इन्हें भी पढ़े          
घरेलू नुस्खों से इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं
बिना जिम जाएं होम एक्सरसाइज से कैसे फिट रहे


Previous
Next Post »

1 Comments:

Click here for Comments
Unknown
admin
28 जून 2020 को 12:33 pm ×

Thanks bhai Tike. Very useful article

Congrats bro Unknown you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar